Promo: Science for a Self-Reliant India- Made in India Mobiles (H)

भारत में मोबाइल का उपयोग बढ़ रहा है। 2023 तक, हमारी 55% से भी अधिक आबादी साधारण फोन के बजाय स्मार्टफोन का उपयोग करने लगेगी। ये अवसर का समय है, लेकिन इसमें चुनौतियां भी हैं, लोग स्वदेशी फोन खरीदने की जगह आयातित मोबाइल और उससे जुड़े अन्य उत्पाद खरीद रहे हैं। इस एपिसोड में हम जानेंगे, कि कैसे भारत मोबाइल फोन के क्षेत्र में अपनी विनिर्माण क्षमता बढ़ा रहा है। इसके लिए हम तकनीकी जानकारी हासिल करने के लिए माइक्रोमैक्स की फैक्ट्री में जाते हैं, और देखते हैं कि कैसे ये फैक्ट्री फोन के निर्माण और अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देने में नवाचारों का उपयोग कर रही है। हम मोबाइल एक्सेसरी सेक्टर की जानकारी भी लेते हैं, जोकि मोबाइल के साथ एक फलता फूलता उद्योग है। इसके लिए हम UBON पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जो भारत की प्रमुख गैजेट एक्सेसरी कंपनियों में से एक है और अपने उत्पादों के लिए वैज्ञानिक नवाचार इस्तेमाल करती है। विज्ञान से आत्मनिर्भर भारत के इस एपिसोड में देखिए, कि कैसे मोबाइल के क्षेत्र में भारत आत्मनिर्भरता की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

Related Videos