Crickets Acoustic-Signal Library (H)

झींगुरों की आवाज़ को अब उनकी प्रजातियों की विविधता पर नजर रखने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। पंजाब विश्वविद्यालय के जूलॉजी विभाग की डीएसटी इंस्पायर संकाय फैलो डॉ. रंजना जैसवारा क्षेत्र में मिलने वाले झींगुरों की ध्वनिक-संकेत लाइब्रेरी स्थापित करने का काम कर रही हैं। इस डिजिटल लाइब्रेरी का इस्तेमाल मोबाइल फोन एप्लिकेशन के माध्यम से किया जा सकेगा ।