Atal Tunnel, Rohtang: An Engineering Marvel (H)

दुर्गम स्थानों को सुगम बनाना आसान नहीं है। नाजुक हिमालय में सुरंग कोई बच्चों का खेल नहीं है, लेकिन यहां भारत ने एक इंजीनियरिंग चमत्कार किया है। रोहतांग में बनी, 3200 करोड़ रुपये की लागत वाली, लगभग 9 किमी लंबी अटल टनल को इंजीनियरिंग का उत्कृष्ट नमूना माना जाता है और आज 3000 मीटर से ज्यादा की ऊंचाई बनने वाली, यह दुनिया की सबसे लंबी टनल है। एक नाजुक पर्वत श्रृंखला में बनी ये टनल मनाली और लेह के बीच की दूरी को 46 किलोमीटर कम कर देती है। यह रणनीतिक टनल लाहौल और स्‍पीति घाटी को हर मौसम में जोड़कर रखती है। ठंडी बर्फीली परिस्थितियों में, सीमित समय के दौरान, हिमालय में एक टनल का निर्माण, हमारी एक बड़ी उपलब्धि है। लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी, महानिदेशक, सीमा सड़क संगठन और उनके बहादुर जांबाजों के साथ देखिए टनल के अंदर का नजारा। ये तो सिर्फ एक शुरूआत है, आगे इससे भी बड़ी टनल बनाने की तैयारी चल रही है।